मुख्य पृष्ठ पर्यावरणीय संरक्षा
 
पर्यावरणीय संरक्षा :

एनपीसीआईएल, अपने सभी कार्यकलापों को उच्च स्तरीय तकनीकी दक्षता के साथ निष्पादित करने व पर्यावरण संरक्षण को अंतरराष्ट्रीय संरक्षा मानकों के अनुरूप सुनिश्चित करने के प्रति संकल्पित है। एनपीसीआईएल, न्यूक्लियर सुविधाओं, अपने कर्मचारियों, आम नागरिकों व पर्यावरण की संरक्षा सहित, अपने सभी कार्यकलापों में श्रेष्ठ‍ता प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयत्नशील है। एनपीसीआईएल, सभी प्रयोज्य सांविधिक आवश्यकताओं को पूर्ण करने व साथ ही पर्यावरण संरक्षण के उच्च्तम मानकों को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है।

परियोजना अभिकल्पन के साथ पर्यावरणीय पहलुओं को एकीकृत करने के लिए, न्यू‍क्लियर विद्युत परियेाजनाओं का पर्यावरण प्रभाव आकलन अध्ययन किया जाता है। यह पर्यावरण प्रभाव आकलन अध्ययन, पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव को न्यूनतम रखने के लिए पर्यावरणीय प्रबंधन योजना सुलभ कराता है। इस ईआईए अध्ययन को विनियामक प्राधिकरणों जैसे, पर्यावरण एवं वन मंत्रालय (एमओईएफ), राज्य प्रदूषण बोर्ड (एसपीसीबी) के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है।

एक जिम्मेदार निगम होने के नाते, एनपीसीआईएल, अपने कार्यकलापों में पर्यावरणीय प्रभाव का प्रबंधन करने हेतु प्रयत्नशील रहता है। तदनुसार, एनपीसीआईएल के सभी प्रचालनरत विद्युत संयंत्रों ने, आईएसओ 14001 के अनुरूप, पर्यावरणीय प्रबंधन प्रणाली (ईएमएस) तथा आईएस-18001 के अनुरूप व्यावसायिक स्वास्थ्य एवं संरक्षा प्रणाली स्थाापित की है। एनपीसीआईएल के विद्युत केंद्रों में, मिट्टी, पानी में ऊत्सर्जन में कमी, जल व वातावरण संरक्षण, जैव-विविधता संरक्षण, संसाधनों की स्रोत पर कमी, पुन: उपयोग, पुनश्चक्रण, आदि उपायों को अपनाया गया है।

     
  पर्यावरण नीति
  पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफसीसी) से अनुमति
  राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से प्राधिकार/ सहमति
  पर्यावरणीय मॉनीटरन व अध्ययन
  एनपीसीआईएल विद्युत केंद्रों पर ईएमएस/ ओएचएसएमएस